पहाड़ों या पर्वत से जुड़़े महत्‍वपूर्ण तथ्‍य – Mountains Facts

0
79
पहाड़ों या पर्वत से जुड़़े महत्‍वपूर्ण तथ्‍य - Mountains Facts
Mountains Facts

पहाड़ों या पर्वत से जुड़़े महत्‍वपूर्ण तथ्‍य – Mountains Facts

पहाड़ गर्मियों में भी ठण्डे होते हैं, क्यों ?

पहाड़ी जमीन समतल नहीं होती, जिस कारण अधिकतर स्थानों पर सूर्य का प्रकाश नहीं पहुंच पाता जिससे अधिकतर भाग गर्म नहीं हो पाते। इन पर सूर्य की किरणें तिरछी पड़ती हैं जिससे जमीन के मात्रक क्षेत्रफल को मैदानों की अपेक्षा कम ऊष्मा मिलती है। सूर्य के छिपने पर पृथ्वी विकिरण द्वारा ठण्डी होने लगती है। या निश्चित द्रव्यमान के लिए पहाड़ों का पृष्ठ क्षेत्रफल मैदानों की अपेक्षा अधिक होता है।

यह भी पढ़ें :- कौवे और मैना की कहानी – kauwa aur maina ki kahani

अतः पहाड़ बहुत शीघ्र ठण्डे हो जाते हैं। इसीलिए पहाड़ों पर रात और भी ठण्डी होती है। पहाड़ ऊंचाई पर होते हैं जिस कारण वायु का घनत्व बहुत कम हो जाता है। इस कारण विकीर्ण ऊर्जा का वायु के अणुओं द्वारा वापस परावर्तन नहीं होता हैं। इसलिए पहाड़ गर्मियों में भी ठण्डे होते हैं।

पहाड़ नीले क्यों दिखाई पड़ते हैं ?

पहाड़ों पर तापमान कम होने के कारण आद्रता अधिक होती है। इससे पानी की महीन बूंदें अस्तित्व में आ जाती हैं। ये बूंदें वायु अणुओं के साथ मिलकर प्रकाश के नीले भाग का प्रकीर्णन सबसे अधिक करती हैं जिससे पहाड़ नीले दिखाई देने लगते हैं।

यह भी पढ़ें :- Short Stories – मनुष्य जीवन की ईश्वर प्राप्ति में बाध्यता की कहानी

Top 10 Mountains In The World

पृथ्वी पर कम से कम 108 पर्वत हैं जिनकी ऊंचाई 7200 मीटर (23,622 फीट) या समुद्र तल से अधिक है। इन पहाड़ों का अधिकांश भाग भारतीय और यूरेशियन प्लेट के किनारे पर स्थित है- अर्थात् चीन, पाकिस्तान, नेपाल और भारत में।

Top 10 Highest Point Mountains Name

  1. Mount Everest is the highest point on Earth.
  2. K2, the highest summit of the Karakoram
  3. Kangchenjunga, the second-highest mountain of the Himalaya
  4. Lhotse, the third-highest mountain of the Himalaya
  5. Makalu in the Himalaya
  6. Cho Oyu in the Himalaya
  7. Dhaulagiri in the Himalaya
  8. Manaslu in the Himalaya
  9. Nanga Parbat in the Himalaya
  10. Annapurna I in the Himalaya

पहाड़ों या पर्वत से जुड़़े महत्‍वपूर्ण तथ्‍य जानने के लिए हमारे Website Hindi Times पार Visit करते रहे, धन्यवाद।

Previous articleकौवे और मैना की कहानी – kauwa aur maina ki kahani
Next articleMaa Bete Ki Kahani – माँ – बेटे का मिलान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here